सिद्धिदात्री मां के पूजन के साथ आज हो जाएगा नवरात्रि का समापन, जानिए आराधना मंत्र, प्रियभोग व कन्या पूजन विधि

0
1043

महानवमी 2021 मां सिद्धिदात्री, पूजा मंत्र और महिला पूजा विधि

नवरात्रि के आठ दिनों तक पूजा-अर्चना करने के बाद इस समय नवरात्रि की नवमी तिथि के पूजन के साथ नवरात्र का समापन होगा. आज के दिन मां दुर्गा की नौवीं शक्ति मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। इनकी पूजा करने से व्यक्ति को सभी सिद्धियां प्राप्त होती हैं। नवमी तिथि को जातक का मन निर्वाण चक्र में रहता है। इसके साथ ही नवरात्रि की नवमी तिथि को महिलाओं की पूजा करने का भी विधान है। आज के दिन मां दुर्गा के 9 स्वरूपों के प्रतीक के रूप में 9 महिलाओं की पूजा की जाती है। 9 महिलाओं वाले बच्चे की पूजा करने का भी विधान है। माना जाता है कि लड़का बटुक भैरव का एक प्रकार है। नवरात्रि आज समाप्त हो रही है, इसलिए भक्तों के लिए इस तिथि का विशेष महत्व है। तो आइए जानते हैं मां सिद्धिदात्री का प्रिय भोग, पूजन मंत्र और महिला पूजन विधि।

माँ सिद्धिदात्री:

माँ सिद्धिदात्री का प्रकार

कमल पर विराजमान हैं मां सिद्धिदात्री महालक्ष्मी। उनकी 4 भुजाएँ हैं। माँ अपने ऊपरी दाहिने हाथ में गदा रखती हैं और अपने निचले हाथ में एक चक्र रखती हैं। माता ऊपरी बाएं हाथ में शंख रखती हैं और निचले हाथ में कमल सुशोभित है।

मां सिद्धिदात्री पूजा मंत्र-
या देवी सर्वभूतु माँ सिद्धिदात्री रूपेन संस्था।
नमस्ते नमस्तस्य नमस्तस्य नमो नमः।

कन्या पूजन विधि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here