यूपी: दशानन रावण का 100 वर्ष पुराना मंदिर जहां सिर्फ दशहरे के दिन होते हैं दर्शन, जानिए क्या है मान्यता

0
958

जहां पूरा देश दशहरे के दिन रावण को जलाकर खुशियां मनाता है, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो रावण के सौ साल पुराने मंदिर में विशेष पूजा करते हैं। यह पूजा केवल दशहरे के दिन ही की जाती है। दशानन कानपुर के शिवाला में शक्ति प्रहरी के रूप में विराजमान हैं। जहां पूरा देश दशहरे के दिन रावण को जलाकर खुशियां मनाता है, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो रावण के सौ साल पुराने मंदिर में विशेष पूजा करते हैं। यह पूजा केवल दशहरे के दिन ही की जाती है। दशानन कानपुर के शिवाला में शक्ति प्रहरी के रूप में विराजमान हैं। विजयादशमी के दिन सुबह मंदिर में मूर्ति की पूजा कर पट खुल जाते हैं। रात में आरती की जाती है। ये दरवाजे साल में एक बार दशहरे के दिन ही खोले जाते हैं। मां भक्त मंडल के संयोजक केके तिवारी का कहना है कि मंदिर का निर्माण वर्ष 1868 में महाराज गुरु प्रसाद शुक्ल ने करवाया था। वह भगवान शिव के आदर्श भक्त थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here