चिंता की बात : त्योहार आते ही दिल्ली में गिरा कोरोना टीकाकरण ग्राफ, पहली खुराक वाले हुए कम

0
1063

फिर भी दिल्ली में 34 लाख पंजीकृत वयस्क वैक्सीन से दूर, संख्या बढ़ सकती है।

त्योहार के आने के साथ जहां दिल्ली में कोरोना के टीकाकरण को 11 सप्ताह हो गए हैं, वहीं राजधानी में पहली खुराक लेने वालों की संख्या में पिछले 23 दिनों से लगातार कमी आ रही है। ऐसा इसलिए नहीं है कि जनता को टीका लगाया गया है, बल्कि इसलिए कि दिल्ली में पंजीकृत 34 लाख वयस्क आबादी अभी भी वैक्सीन से दूर है और यह संख्या बढ़ सकती है।

विशेषज्ञों की मानें तो दिल्ली में कोरोना के टीकाकरण की सबसे ज्यादा जरूरत है। पेशेवर। शांतनु सेन ने ट्रांसजेंडर आबादी का उदाहरण देते हुए कहा कि दिल्ली में कुल पंजीकृत मतदाताओं की संख्या 815 है, जबकि वैक्सीन अब तक साढ़े पांच हजार से ज्यादा लोगों को दी जा चुकी है। इससे स्पष्ट है कि टीका लेने वालों की संख्या पंजीकृत मतदाताओं से अधिक है।

दिल्ली सरकार के अनुसार ही 18 वर्ष और उससे अधिक आयु वर्ग की कुल जनसंख्या लगभग 1.50 करोड़ है, जिसमें से 1.26 करोड़ पहले और 67.49 लाख लोग प्राप्त कर चुके हैं। इसके हिसाब से पंजीकृत आबादी में ही करीब 34 लाख का अंतर है और उसके बाद अपंजीकृत आबादी का आंकड़ा किसी के पास नहीं है।

दरअसल, कोविन वेबसाइट के मुताबिक दिल्ली में 31 जुलाई से हर हफ्ते सात लाख से ज्यादा टीकाकरण हो रहे थे, लेकिन नौ अक्टूबर से अब तक के सप्ताह में यह संख्या पांच लाख तक ही पहुंच पाई है। इससे पहले, 24 से 30 जुलाई के बीच प्रति सप्ताह 5 लाख टीकाकरण दर्ज किए गए थे। टीकाकरण में 10 सप्ताह के लगातार सुधार के बाद, गिरावट ऐसे समय दर्ज की गई है जब कोविद सतर्कता दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन और टीकाकरण को महत्वपूर्ण माना जा रहा है क्योंकि त्योहार

इस तरह पहली खुराक लेने वालों की संख्या घटी

कोविन वेबसाइट के मुताबिक, 21 सितंबर तक दिल्ली में रोजाना पहली खुराक लेने वालों की संख्या ज्यादा दर्ज की जा रही थी, लेकिन 22 सितंबर के बाद से रोजाना दूसरी खुराक लेने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है और पहली खुराक लेने वालों की संख्या लगातार कम हो रही है। है। इसके पीछे स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जुलाई से सितंबर के बीच कई लोगों को वैक्सीन मिल गई थी, जिनकी दूसरी खुराक लेने का समय भी आ रहा है। तो यह संख्या बढ़ाई जा रही है लेकिन सवाल यह है कि ये पहली खुराक कम क्यों ले रहे हैं?

अभी अंतिम दिन है, दोबारा नहीं मिलेगा प्रवेश

अधिकारी ने कहा कि पहली खुराक को लेकर विभाग गंभीर है। इसके लिए लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। हाल ही में दिल्ली सरकार ने एक आदेश जारी किया था, जिसके तहत सभी विभागों में कार्यरत कर्मचारियों के लिए वैक्सीन लेने का आज आखिरी दिन है। इसके बाद शनिवार से किसी भी कर्मचारी को कार्यालय में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। उन्हें तब तक छुट्टी पर भेजा जाएगा जब तक उन्हें वैक्सीन की एक से कम खुराक नहीं मिल जाती। साथ ही जिला प्रशासन से भी टीकाकरण बढ़ाने पर जोर देने को कहा जा रहा है।

2 सप्ताह के लिए बनाई गई रिपोर्ट, फिर धमाके के साथ नीचे

केंद्र सरकार के जवाब में राज्यों के पास पर्याप्त टीके हैं, लेकिन दिल्ली में टीकाकरण का ग्राफ कुछ अलग ही तस्वीर दिखा रहा है। दो हफ्ते तक रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचने के बाद यह ग्राफ इतना नीचे आ गया कि टीकाकरण में 70 फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई। 18 से 24 सितंबर और 25 सितंबर से 1 अक्टूबर के बीच, 11.59 और 11.26 लाख टीकाकरण क्रमशः दो सप्ताह में पूरे किए गए, जो 16 जनवरी के बाद पहली बार है, हालांकि 2 से आठ अक्टूबर के बीच 7.92 लाख और 9 अक्टूबर से एक बार फिर टीकाकरण किया गया। अब तक। केवल 5.08 लाख लोगों को वैक्सीन मिली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here