कोविड19: त्योहारों में कोरोना पकड़ सकता है रफ्तार, भारत 100 करोड़ टीके के लक्ष्य से बस तीन कदम दूर

0
951

कोरोना टीकाकरण कार्यक्रम अपने 100 करोड़ के लक्ष्य से अब महज तीन कदम (तीन करोड़) दूर है। स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा, टीकाकरण अभियान के 100 करोड़ डोज पूरे होने पर रेलवे स्टेशनों, विमानों, मेट्रो और जहाजों पर इसकी घोषणा की जाएगी। देश में कुल टीकाकरण का आंकड़ा 97 करोड़ को पार कर गया है।

हालांकि, देश में एक बार फिर त्योहारी सीजन में कोरोना वायरस रफ्तार पकड़ता नजर आ रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से गुरुवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले दो दिनों से नए संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। पिछले 24 घंटे में 18,987 मामले सामने आए हैं जबकि 246 मरीजों की मौत हुई है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में पिछले 24 घंटे में 19808 मरीज स्वस्थ घोषित किए गए हैं। देश में कुल मरीजों की संख्या 3,40,020,73 हो गई है। अब तक कुल 3,33,62,709 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। वहीं अब तक कुल 4,51,435 मरीजों की मौत हो चुकी है। सक्रिय कोरोना मरीजों की संख्या में गिरावट दर्ज की गई। सक्रिय मरीजों की संख्या घटकर सिर्फ 2,06,586 रह गई है जो अब तक मिले कुल मामलों का महज 0.61 प्रतिशत है।

बहाली शुल्क बढ़ाया गया

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में कोरोना को मात देने वाले मरीजों की रफ्तार बढ़कर 98.07 फीसदी हो गई है। पिछले 24 घंटे में कुल 13.01 लाख सैंपल की जांच की गई है। इसमें से 1.46 फीसदी सैंपल में वायरस की पुष्टि हुई है। हर दिन संक्रमण दर 1.19 प्रतिशत हो गई है, जिसमें वृद्धि देखी गई है। साप्ताहिक संक्रमण दर की बात करें तो यह 1.44 प्रतिशत है।

आंध्र प्रदेश में कर्फ्यू बढ़ा

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक मंगलवार और बुधवार को संक्रमण के मामलों में कमी आई थी, लेकिन अब संक्रमण बढ़ रहा है। पिछले एक दिन में मुंबई में कोरोना वायरस के 481 नए मामले सामने आए हैं। तीन मरीजों की मौत हो चुकी है। पिछले 24 घंटे में 461 मरीज स्वस्थ घोषित किए गए हैं। आंध्र प्रदेश में 30 अक्टूबर तक कर्फ्यू बढ़ा दिया गया है।

बच्चों से पहले बड़ों का टीकाकरण खत्म करने का लक्ष्य

बच्चों के लिए भी कोरोना वायरस से बचाव के लिए टीके आने लगे हैं, लेकिन सरकार अब भी वयस्कों के टीकाकरण को प्राथमिकता पर रखना चाहती है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि देश में अब तक 97 करोड़ से ज्यादा टीकाकरण हो चुका है। लगभग 30 करोड़ लोग ऐसे हैं जिन्हें वैक्सीन की एक भी खुराक नहीं मिली है। ऐसे में अगर बच्चों का टीकाकरण भी शुरू हो जाता है तो कहीं भटकाव जैसी स्थिति देखने को मिलेगी।

इस तथ्य के कारण, कम से कम 90 से 95 प्रतिशत एकमात्र खुराक का टीकाकरण होने की प्रतीक्षा की जाएगी। टीकाकरण समिति के सूत्रों का कहना है कि टीकाकरण खत्म करने के लिए सबसे पहले वयस्क भाग लेते हैं। इस वजह से बच्चों के टीकाकरण से जुड़ी तैयारियां तो जारी हैं लेकिन आगे की प्रक्रिया में तेजी लाने को प्राथमिकता नहीं दी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here